ज्योति रेड्डी : कभी करती थी मजदूरी आज हैं USA की कंपनी की CEO

ज्योति रेड्डी : कभी करती थी मजदूरी आज हैं USA की कंपनी की CEO

अगर इंसान में कुछ कर गुजरने की चाहत हो तो कोई भी बाधा उससे रोक नहीं सकती है | आजकल की इस दुनिया में जब लोग अच्छी लाइफ स्टाइल के लिए शार्ट कट ढूंढते है ,वही कुछ लोग तिनका तिनका जोड़कर अपने लिए महल बनाते है | ये कहानी है ऐसी ही एक महिला की जो कभी मजदूरी करके 5 रु रोज का कमाती थी वही आज वो अमेरिका की एक कंपनी की CEO है |

ज्योति का जन्म वारांगल के एक गरीब परिवार में हुआ था | गरीबी की वजह से उसके घरवालों ने उससे अनाथ आश्रम में डाल दिया था | ये वो समय था जब ज्योति के पास उसके सुख दुःख बाटने के लिए कोई नई था, सिर्फ उसका आत्मविश्वास उसके पास था | उसने अपने आप को educated करने का फैसला लिया इसके लिए उसने गवर्नमेंट स्कूल में admisssion ले लिया साथ ही अपने superintendent के यहां कुछ पैसे कमाने के लिए घर का काम काज करने लगी |उन्होंने 10वीं की परीक्षा पहले दर्जे से पास की | इसी बीच ज्योति की शादी 16 साल की उम्र में अपने से 10

साल बड़े आदमी से कर दी गयी और 18 साल की उम्र तक उसके दो बच्चे भी हो गए | पति ने ज्योति को हमेशा अपने सपने पूरे करने से रोका लेकिन ज्योति ने न समाज की न अपने पति की सुनी |

Image Title

अपने से ज्यादा अब उससे अपने बच्चों की चिंता होने लगी उनका पालन पोषण करने के लिए उससे 5 रु में मजदूरी करनी पड़ी लेकिन उन्होंने हालातों से समझौता नहीं किया | उन्होंने NYK (Nehru Yuva Kendra) स्कीम का फ़ायदा उठाया और इसके लिए काम करने लगी ,रात को petticoat सिलती थी और टाइप राइटिंग का कोर्स भी करती थी इसी बीच 1997 में उन्होंने MA की डिग्री ले ली और उन्हें 398 रु सैलरी पर टीचर की जॉब मिल गयी पर स्कूल 2 घंटे की दूरी पर था तो वो ट्रैन में अपने सह- यात्रियों को साड़ी बेचते हुए जाती थी ताकि बच्चों की ज़रूरतों को पूरा कर सके |

धीरे-धीरे आगे बढ़ने वाली ज्योति ने जब यूएस में रहने वाली अपनी एक चचेरी बहन को देखा तो वह उसके लाइफस्टाइल से काफी प्रभावित हुईं. इसके बाद ज्योति ने सॉफ्टवेयर कोर्स करने का फैसला किया ताकि वह अपना भविष्य यूएस में बना सकें. इसके बाद सन 2000 में वह यूएस पहुंच गईं. वहां उन्हें 12 घंटे में $60 डॉलर वाली एक जॉब मिली | उसके बाद उन्हें सॉफ्टवेयर रिक्रूटर बनने का ऑफर आया लेकिन अच्छी अंग्रेजी नहीं होने की वजह से उन्होंने वह जॉब नहीं की | फिर उन्होंने अपनी खुद की कंपनी खोलने का फैसला लिया और $40000 की अपनी savings से 2001 में Key software solution नाम की कंपनी खोल ली और दिन रात एक कर दिया आज यह $15मिलियन डॉलर की आईटी कंपनी है.| उन्होंने अपनी दोनों बेटियों को अमेरिका बुला लिया और उनकी बेटियां आज अमेरिका के स्कूल में अपनी एजुकेशन पूरी कर रही हैं |

Image Title

इस सफलता के मुकाम पर पहुंचकर भी ज्योति अपने पुराने दिनों को भूली नहीं है. वह अनाथालय में रहने वाले बच्चों के लिए काम करना चाहती हैं और कई तरह की चैरिटी में भी हिस्सा ले रही हैं |


Share it
Top
To Top